"योजनायें" के अवतरणों में अंतर

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
('# भारतीय एंव ब्रज संस्कृति, दर्शन, कला, इतिहास, लोक सा...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
# भारतीय एंव ब्रज संस्कृति, दर्शन, कला, इतिहास, लोक साहित्य के प्रति समर्पित पूर्णतः विकसित अनुसंधानशाला की स्थापना।
 
# लोक कला विथिका का विकास।
 
# इतिहास एवं दर्शनशास्त्र में पी.एच.डी. उपाधि के लिये डॉ भीमराव अम्बेदकर विश्वविद्यालय, आगरा से सम्बद्धता प्राप्त करना।
 
# पर्यटकों, विद्याथियो, शोधथियो, को ब्रज संस्कृति संबंधी जानकारी ऑडियो-विजुअल माध्यम से उपलब्ध करने हेतु सुसज्जित प्रदशनी हॉल का निर्माण।
 
 
# भारतीय शास्त्रीय एवं ब्रज के पारम्परिक लोक संगीत की रिकार्डिंग के लिये स्टुडियो की स्थापना।
 
# भारतीय शास्त्रीय एवं ब्रज के पारम्परिक लोक संगीत की रिकार्डिंग के लिये स्टुडियो की स्थापना।
 
# एक आदर्श ब्रज संस्कृति संग्रहालय का विकास
 
# एक आदर्श ब्रज संस्कृति संग्रहालय का विकास
 +
# इतिहास एवं दर्शनशास्त्र में पी.एच.डी. उपाधि के लिये डॉ भीमराव अम्बेदकर विश्वविद्यालय, आगरा से सम्बद्धता प्राप्त करना।
 +
# पर्यटकों, विद्याथियो, शोधथियो, को ब्रज संस्कृति संबंधी जानकारी ऑडियो-विजुअल माध्यम से उपलब्ध करने हेतु सुसज्जित प्रदशनी हॉल का निर्माण।
 +
# ब्रज की रासलीला के विकास हेतु कुशल शिक्षको द्वारा जिज्ञासुओ को प्रशिक्षण प्रदान करना और रासलीला की प्रचार-प्रसार हेतु संस्थान प्रेक्षाग्रह मे प्रदर्शित करना।
 +
# संस्थान परिसर की विशेष लैंड स्काइपिंग करना।
 +
# ब्रज भाषा अकादमी का निर्माण करना।
 +
# जीव गोस्वामी के पुस्तकालय "पुस्तक ठौर" की पुनर्स्थापना।
 +
 +
  
  
 
[[category:योजनायें]]
 
[[category:योजनायें]]

23:48, 7 जनवरी 2020 के समय का अवतरण

  1. भारतीय शास्त्रीय एवं ब्रज के पारम्परिक लोक संगीत की रिकार्डिंग के लिये स्टुडियो की स्थापना।
  2. एक आदर्श ब्रज संस्कृति संग्रहालय का विकास
  3. इतिहास एवं दर्शनशास्त्र में पी.एच.डी. उपाधि के लिये डॉ भीमराव अम्बेदकर विश्वविद्यालय, आगरा से सम्बद्धता प्राप्त करना।
  4. पर्यटकों, विद्याथियो, शोधथियो, को ब्रज संस्कृति संबंधी जानकारी ऑडियो-विजुअल माध्यम से उपलब्ध करने हेतु सुसज्जित प्रदशनी हॉल का निर्माण।
  5. ब्रज की रासलीला के विकास हेतु कुशल शिक्षको द्वारा जिज्ञासुओ को प्रशिक्षण प्रदान करना और रासलीला की प्रचार-प्रसार हेतु संस्थान प्रेक्षाग्रह मे प्रदर्शित करना।
  6. संस्थान परिसर की विशेष लैंड स्काइपिंग करना।
  7. ब्रज भाषा अकादमी का निर्माण करना।
  8. जीव गोस्वामी के पुस्तकालय "पुस्तक ठौर" की पुनर्स्थापना।